चिन्मयानंद से SIT ने की 7 घंटे पूछताछ के बाद स्वामी चिन्मयानन्द नजरबन्द, दिव्य धाम का बेडरूम भी सील

एलएलम छात्रा से यौन शोषण प्रकरण की जांच कर रही एसआईटी की टीम ने गुरुवार देर रात तक स्वामी चिन्मयानंद से पूछताछ की। इसके बाद उन्हें नजरबंद करके दिव्य धाम का एक बेडरूम भी सील कर दिया है। एसआईटी की टीम फॉरेंसिक टीम के साथ शुक्रवार को कमरे की जांच कर सकती है, जिसके मद्देनजर आश्रम की सुरक्षा बढ़ा दी गयी है।

छात्रा यौन शोषण प्रकरण में फंसे पूर्व केंद्रीय मंत्री स्वामी चिन्मयानंद से गुरुवार को एसआईटी की टीम ने पुलिस लाइन स्थित अस्थाई कार्यालय में पूछताछ की थी। एसआईटी प्रभारी आइजी नवीन अरोड़ा व उनकी टीम के सदस्यों ने स्वामी से कई सवाल पूछे। प्राथमिक सवालों में वह छात्रा को कब से और कैसे जानते हैं, परिवार के बारे में क्या जानकारी है और पांच करोड़ रुपये की रंगदारी समेत अन्य सवाल पूछे। यह पूछताछ देर रात एक बजे तक चली। इसके बाद उनके बेडरूम को सील कर दिया गया है।

इससे पहले एसआईटी ने स्वामी चिन्मयानंद के दोनों कॉलेजों के प्राचार्यों व अन्य करीबियों से तकरीबन सात घंटे तक पूछताछ की थी। छात्रा की ओर से लगाए गए दुष्कर्म के आरोप और हॉस्टल के कमरे में साक्ष्यों से छेड़छाड़ संबंधी आरोपों को लेकर स्वामी चिन्मयानंद ने कहा कि उन पर लगाये गये सभी आरोप निराधार हैं। इससे उनकी व मुमुक्षु संकुल की छवि खराब हो रही है।

हालांकि रेप के मामले में अब तक एफआईआर दर्ज नहीं की गयी है। इस मामले की जांच कर रही एसआईटी की निगरानी इलाहाबाद हाईकोर्ट की दो सदस्यीय विशेष पीठ कर रही हो, लेकिन मामले की गंभीरता को देखते हुए सूबे की सरकार और राज्य पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह करीब से नजर रखे हुये हैं। पुलिस और एसआईटी को यह डर भी सता रहा है कि अगर उसकी जांच में कही कोर-कसर बाकी रह गई तो कहीं मामले की निगरानी कर रही हाईकोर्ट की विशेष पीठ एसआईटी से छीनकर जांच सीबीआई के हवाले न कर दे।

बहरहाल इन तमाम तथ्यों के बीच पुलिस लाइन में बने एसआईटी के अस्थायी दफ्तर में चिन्मयानंद को गुरुवार को पूछताछ के लिए बुलाया गया था। एसआईटी ने गुरुवार की शाम को छह बजे से रात एक बजे तक यानी करीब सात घंटे स्वामी चिन्मयानंद से पूछताछ की। एसआईटी ने छात्रा द्वारा लगाए गए आरोपों के सम्बंध में उनसे पूछताछ की। इसके बाद उन्हें नजरबन्द करके दिव्य धाम का एक बेडरूम भी सील कर दिया गया। एसआईटी की टीम फॉरेंसिक टीम के साथ आज कमरे की जांच कर सकती है, जिसके मद्देनजर स्वामी चिन्मयानंद के आश्रम की सुरक्षा बढ़ाकर अतिरिक्त पुलिस फोर्स तैनात कर दिया गया है।

हॉस्टल के कमरे से नहीं मिला छात्रा का चश्मा, रिकॉर्डर और पर्स

एसआईटी ने मंगलवार को हॉस्टल में लड़की के कमरे की जांच की थी। इस दौरान वहां छात्रा का चश्मा, रिकॉर्डर और पर्स नहीं मिला। इसके बाद पिता ने आरोप लगाया था कि कमरे में रखा उनकी बेटी का पर्स, उसमें रखी चिप, गद्दा और चादर के अलावा वह चश्मा भी गायब है, जिसमें कैमरा लगा हुआ था। एसआईटी ने बुधवार को चिन्मयानंद पर यौन शोषण का आरोप लगाने वाली लॉ छात्रा का कड़ी सुरक्षा के बीच मेडिकल कराया गया था। मुमुक्षु आश्रम से संबद्ध शिक्षण संस्थाएं 3 दिन के लिए बंद कर दी गई हैं। माना जा रहा है कि एसआईटी जांच के चलते ऐसा किया गया है लेकिन अधिकारिक तौर पर ऐसी जानकारी नहीं दी गई है।

शाहजहांपुर में डेरा डाले हुये एसआईटी टीम

शाहजहांपुर में कई दिन से डेरा डाले एसआईटी टीम के सदस्य आरोपी-गवाह और शिकायतकर्ताओं के अलावा बाकी हर किसी से दूरी बनाए हुए हैं। वजह है कि एसआईटी पर इलाहाबाद हाई कोर्ट की विशेष पीठ की नजरें लगी हुई हैं। जांच में क्या कुछ निकल कर सामने आ रहा है ? जांच की दिशा क्या है ? इसकी पल-पल की जानकारी पुलिस महानिदेशक ओम प्रकाश सिंह को एसआईटी दे रही है, ताकि एसआईटी जब रिपोर्ट के साथ इलाहाबाद हाई कोर्ट की दो सदस्यीय पीठ के सामने पेश हो, तो राज्य सरकार और राज्य पुलिस की किरकिरी न हो।

Back to top button