गाजियाबाद : वर्दीवालो के दामन पर लगा गबन का दाग, महिला इंस्पेक्टर समेत 7 पर FIR

गबन के आरोपितों के पास से बरामद रकम में से 70 लाख रुपये गायब करने के मामले में निलंबित लिंक रोड की थाना प्रभारी लक्ष्मी चौहान समेत छह पुलिसकर्मियों के खिलाफ बुधवार की देर रात खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। मामले की विवेचना पुलिस क्षेत्राधिकारी आतिश कुमार को सौंपी गई है। इससे पहले एसएसपी ने इस सभी को निलंबित कर दिया गया था।

लिंक रोड थाने में गबन के आरोप में एक मुकदमा सीएमएस कंपनी के कर्मचारियों के खिलाफ लिखा गया था। उन पर आरोप था कि एटीएम में डाली जाने वाली रकम में से उन्होंने करीब एक करोड़ रुपये का गबन किया है। इस मामले की जांच स्वयं थानाध्यक्ष लिंक रोड लक्ष्मी सिंह चौहान कर रही थीं। इस मामले में विवेचना के दौरान 24 सितम्बर की रात को राजीव सचान और आमिर को गिरफ्तार किया गया था। इनके पास से विवेचक लक्ष्मी सिंह चौहान ने 45 लाख 81,500 रुपये बरामद दिखाए थे। इस मामले में सीओ साहिबाबाद डॉ. राकेश कुमार मिश्रा ने बरामद रकम को लेकर अपने स्तर से जांच शुरू की जिसमें दोनों आरोपियों ने बताया कि राजीव सचान से करीब 55 लाख और आमिर से 60 से 70 लाख रुपये के बीच बरामदगी पुलिस ने की थी।

पुलिस द्वारा बरामद दिखाई गई रकम और आरोपियों से बरामद बताई गई रकम में करीब 70 लाख का अंतर था। इस मामले की जानकारी सीओ साहिबाबाद डॉ. राकेश कुमार मिश्रा ने एसएसपी को दी। सीओ की जांच में प्रथम दृष्टया दोषी पाए जाने के कारण एसएससी ने थानाध्यक्ष लिंक रोड लक्ष्मी सिंह चौहान उपनिरीक्षक नवीन कुमार पचौरी, कांस्टेबल बच्चू सिंह, फराज, धीरज भारद्वाज, सौरभ कुमार एवं सचिन कुमार की भूमिका संदिग्ध पाये जाने पर सातों लोगों को निलंबित कर दिया गया। साथ ही एसएसपी ने उनके खिलाफ जांच बैठा दी है। इसके बाद गुरुवार की देर रात में लक्ष्मी चौहान समेत सभी पुलिसवालों के खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम (7/13) के तहत मुकदमा दर्ज करा दिया गया।

Back to top button