जिस्मफरोशी का अड्डा बना अस्पताल, आपत्तिजनक हालत में 4 लड़कियां, 6 लड़के गिरफ्तार

 

Image result for अस्पताल में चल रहा था जिस्मफरोशी का धंधा,

उज्जैन के चिमनगंज मंडी थाना क्षेत्र की एक कॉलोनी में रहने वाली नाबालिग लडक़ी को नागझिरी थाना पुलिस ने दो दिन पूर्व संदिग्ध अवस्था में बीती आधी रात को ऑटो रिक्शा में जाते हुए देखा तो रोककर पूछताछ की। पूछताछ में नाबालिग ने पुलिस को बताया कि वह एक सेक्स रैकेट के लिए काम करती है और कुछ लोग उसके साथ दुष्कर्म कर चुके हैं। सूत्रों के अनुसार गुरुवार शाम को जब पुलिस ने यहां छापेमारी की तो चार लड़कियां और छह लड़के आपत्तिजनक हालत में मिले।

पुलिस ने इस मामले में एक आरोपित को चरक अस्पताल से पूछताछ के लिए गिरफ्तार किया तो उसे शुक्रवार-शनिवार आधी रात को हार्टअटैक आ गया। उसका उपचार शहर के निजी अस्पताल में जारी है। इधर आरोपित की पत्नी ने पुलिस पर मारपीट का आरोप लगाया है। वहीं फिलहाल उज्जैन पुलिस पूरे मामले पर चुप्पी साधे हुए हैं।

गौरतलब है कि सिंहस्थ 2016 में आगर मार्ग पर जिला अस्पताल के समीप टीबी अस्पताल को तोडक़र भव्य अस्पताल बनाया गया था, जिसका नाम चरक रखा गया। इस चरक अस्पताल में फिलहाल महिलाओं की प्रसूति और बच्चों का अस्पताल चल रहा है। इस भवन के तीसरे तल तक वार्डों के रूप में कक्ष उपयोग में आ रहे हैं। चौथे तल से पूरा भवन सुनसान पड़ा हुआ है। इसी का फायदा सेक्स रैकेट चलाने वाले गिरोह ने उठाया और यहां रात्रि में देह व्यापार चलने लगा। हालात यह रहे कि लंबे समय से अनैतिक कार्य चलता रहा और इस पर न तो अस्पताल प्रशासन की निगाहें गई, न ही कोतवाली थाना पुलिस की, जबकि देह व्यापार के लिए शहर और बाहर के युवक नियमित रूप से यहां आते रहे।

इधर इस सेक्स रैकेट का खुलासा होने के बाद करीब 7 ऐसी कम उम्र की लड़कियों के बारे में पुलिस ने जानकारी एकत्रित की है जिन्हें देह व्यापार के पेशे में धकेलने वाली महिला, जो कि पुलिस हिरासत में है, ने नशे का आदी बना दिया था। ये लड़कियां शराब सहित अन्य मादक पदार्थों का सेवन भी करती हैं और आदी हो चुकी हैं। इसी कारण इस पेशे से निकलन नहीं पा रही हैं।

अस्पताल प्रशासन और कोतवाली थाना पुलिस भी कटघरे में

इस पूरे मामले में चरक अस्पताल प्रशासन और कोतवाली थाना पुलिस भी कटघरे में है। मामले का खुलासा होने पर नागरिकों में तीखी प्रतिक्रिया है कि इतना बड़ा मामला अस्पताल में रोजाना रात्रि में चलता रहा और अस्पताल प्रशासन को कानोंकान खबर नहीं लगी, आश्चर्य की बात है। फिलहाल पुलिस आरोपितों से पूछताछ कर रही है।

Back to top button